संज्ञा की परिभाषा, भेद एवं उदाहरण - Sangya kise kahate hain

आज हम आपको बताएँगे Sangya kise kahate hain और संज्ञा की परिभाषा क्या है? व इसके कितने भेद होते हैं। अगर आप संज्ञा के बारे में पूरी जानकारी चाहते हैं तो ये आर्टिकल आपके लिए बिलकुल परफेक्ट है। क्यूंकि इस पोस्ट में हमने संज्ञा को उदाहरण के साथ समझाया है।

sangya kise kahate hain

संज्ञा क्या है?

संज्ञा से किसी वस्तु, स्थान, भाव, जीव आदि के नाम का बोध होता है यह विकारी होता है यानी वचन और लिंग के मुताबिक इसका रूप बदल जाता है।

संज्ञा की परिभाषा

किसी व्यक्ति, वस्तु, स्थान, प्राणी, गुण, भाव आदि के नाम का बोध कराने वाले शब्दों को संज्ञा कहते हैं।

आदमी, गाय, भैंस, हसना, रोना, शहर, मोहन, अमन, दिल्ली, मुंबई, ईमानदारी, बेईमानी आदि संज्ञा के उदाहरण हैं।

अभी हमने आपको बताया संज्ञा क्या है या संज्ञा किसे कहते हैं। इसे और अच्छे से समझने के लिए चलिए देखते हैं संज्ञा के कितने भेद होते हैं व इसे उदाहरण के साथ समझने की कोशिश करते हैं।

संज्ञा के भेद

आइये जानते हैं संज्ञा कितने प्रकार की होती है? या संज्ञा के कितने भेद होते हैं?
संज्ञा के पांच भेद माने जाते हैं।
1 व्यक्तिवाचक संज्ञा
2 जातिवाचक संज्ञा
3 भाववाचक संज्ञा
4 समूहवाचक संज्ञा
5 द्रव्यवाचक संज्ञा

चलिए अब हम इसे उदाहरण के साथ समझते हैं

Vyakti vachak sangya kise kahate hain

1. व्यक्तिवाचक संज्ञा - जिस शब्द से किसी विशेष व्यक्ति, वस्तु या स्थान के नाम का बोध होता हो उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते हैं। - इसके उदाहरण हैं राम, गांधी जी, गंगा, काशी इत्यादि।

इसे और स्पष्ट तरीके से समझने के लिए व्यक्तिवाचक संज्ञा के इन उदाहरणों को देखें -
1 व्यक्तियों के नाम राम, रहीम, करीम, जोसेफ इत्यादि।
2 दिशाओं के नाम पूरब, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण
3 देशों के नाम भारत, रूस, जापान, अमेरिका इत्यादि
4 राष्ट्रीय जातियों के नाम भारतीय, रूसी, अमेरिकी, जापानी इत्यादि
5 समुद्रों के नाम काला सागर, भूमध्य सागर, हिंद महासागर, प्रशांत महासागर
6 नदियों के नाम गंगा, यमुना, सरस्वती, सतलज, ब्रह्मपुत्र
7 पर्वतों के नाम हिमालय, विंध्याचल, अलकनंदा
8 नगरों सड़कों और चौकों के नाम भदोही, जौनपुर, वाराणसी, मुंबई, दिल्ली, चांदनी चौक, भगत सिंह रोड, इत्यादि
9 पुस्तकों व समाचार पत्रों के नाम कुरान शरीफ, बाइबल, रामायण, गीता, नवभारत टाइम्स, अमर उजाला इत्यादि
10 ऐतिहासिक युद्ध और घटनाओं के नाम पानीपत की पहली लड़ाई, सिपाही विद्रोह
11 दिन व महीनों के नाम सोमवार, मंगलवार, बुधवार इत्यादि
12 त्योहारों के नाम ईद, होली, दिवाली, विजयादशमी इत्यादि


Jativachak sangya kise kahate hain

2. जातिवाचक संज्ञा - जिन संज्ञाओं से एक ही प्रकार की वस्तुओं तथा व्यक्तियों का बोध होता है उसे जातिवाचक संज्ञा कहते हैं। अर्थात जातिवाचक संज्ञा वह संज्ञा है जो किसी विशेष व्यक्ति, स्थान या वस्तु का बोध न करके उससे सम्बंधित पूरी जाति का बोध कराता है।

जैसे - मनुष्य, घर, पहाड़, नदी आदि - इस उदाहरण में आप देख सकते हैं "मनुष्य" शब्द से किसी ख़ास व्यक्ति के नाम का नहीं बल्कि व्यक्तियों की जाति का बोध होता है।

जातिवाचक संज्ञा के इन उदाहरण को देखें व इसे और भी स्पष्ट रूप से समझें -
1 संबंधियों व्यवस्थाओं पदों और कार्यों के नाम भाई, बहन, मंत्री, जुलाहा, ठग, प्रोफेसर
2 पशु पक्षियों के नाम गाय, घोड़ा, बकरी, कौवा, तोता, मैना इत्यादि
3 वस्तुओं के नाम मकान, घड़ी, कुर्सी, पुस्तक इत्यादि
4 प्राकृतिक तत्वों के नाम तूफान, बिजली आदि

Bhav vachak sangya kise kahate hain

3. भाववाचक संज्ञा - इस संज्ञा से हमें व्यक्तियों या वस्तुओं के गुणधर्म दशा आदि का बोध होता है जैसे - लंबाई, बुढ़ापा, नम्रता आदि हर पदार्थ का अपना धर्म होता है जैसे - पानी में शीतलता और आग में गर्मी आदि।

Samuh vachak sangya kise kahate hain

4. समूहवाचक संज्ञा - इस संज्ञा से हमें समूह का बोध होता है। जैसे - सभा, दल, गिरोह, सेना आदि।

Dravya vachak sangya kise kahate hain

5. द्रव्यवाचक संज्ञा - जिस संज्ञा से किसी द्रव्य या पदार्थ का पता चलता है जिसे हम नाप-तोल सकते हैं उसे द्रव्यवाचक संज्ञा कहते हैं। अर्थात द्रव्यवाचक संज्ञा वह संज्ञा है जिससे हमें नापतोल वाली वस्तु का बोध होता है।

जैसे - लोहा, सोना, चांदी, दूध, पानी, तेल आदि

हम समझते हैं कि दिए गए उदाहरणों को देखकर आपको संज्ञा का स्वरूप समझ में आ गया होगा अब चूँकि संज्ञा विकारी शब्द है तो लिंग वचन और कारक चिन्हों के मुताबिक इसके रूप बदल जाते हैं।

देखिए -

लिंग के अनुसार

  • राम खाता है।
  • सीता खाती है।

वचन के अनुसार
  • लड़का खाता है।
  • लड़के खाते हैं।
  • लड़की खाती है।
  • लड़कियां खाती हैं।


निष्कर्ष

इस पोस्ट में हमने आपको बताया संज्ञा क्या है? संज्ञा की परिभाषा क्या है। संज्ञा कितने प्रकार के होते हैं अर्थात संज्ञा के कितने भेद होते हैं। इसके अलावा व्यक्तिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं? जातिवाचक संज्ञा किसे कहते हैं? भाववाचक संज्ञा किसे कहते हैं? समूहवाचक संज्ञा किसे कहते हैं व द्रव्यवाचक संज्ञा किसे कहते हैं?

उम्मीद है ये जानकारी आपको अच्छी लगी होगी। अगर आप ऐसी ही और जानकारी चाहते हैं या इससे रिलेटेड कोई सवाल पूछना चाहते हैं तो नीचे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते हैं।

Post a Comment

Previous Post Next Post