Dushmani ki to kya puchiye... dosti ka bharosa nahi - Nadeem Shad

Dushmani ki to kya puchiye... Dosti ka bharosa nahi - Nadeem Shad

दुश्मनी की तो क्या पूछिये,
दोस्ती का भरोसा नहीं। 
आप मुझ से भी पर्दा करें,
अब किसी का भरोसा नहीं।।

कल ये मेरे भी आँगन में थी,
जिसपे तुझको गुरूर आज है।
कल ये शायद तुझे छोड़ दे,
इस ख़ुशी का भरोसा नहीं।।

क्या ज़रूरी है हर रात में,
चाँद तुमको मिले जानेजाँ।
जुगनुओं से भी निस्बत रखो,
चाँदनी का भरोसा नहीं।।

रात दिन मुस्तकिल कोशिशें,
ज़िन्दगी कैसे बेहतर बने।
इतने दुख ज़िन्दगी के लिये,
और इसी का भरोसा नहीं।।

ये तकल्लुफ भला कब तलक,
मेरे नज़दीक आ जाइये।
कल रहे न रहे क्या पता,
ज़िन्दगी का भरोसा नहीं।।

पत्थरों से कहो राज़-ए- दिल,
ये ना देंगे दगा आप को।
ऐ नदीम आज के दौर में,
आदमी का भरोसा नहीं।।

nadeem shad shayari
NADEEM SHAD


Dushmanee Kee To Kya Poochhiye,
Dostee Ka Bharosa Nahin.
Aap Mujh Se Bhee Parda Karen,
Ab Kisee Ka Bharosa Nahee..

Kal Ye Mere Bhee Aangan Mein Thee,
Jisape Tujhako Guroor Aaj Hai.
Kal Ye Shaayad Tujhe Chhod De,
Is Khushee Ka Bharosa Nahee.. 

Kya Zarooree Hai Har Raat Mein,
Chaand Tumako Mile Jaanejaan.
Juganuon Se Bhee Nisbat Rakho,
Chaandanee Ka Bharosa Nahee..

Raat Din Mustakil Koshishen,
Zindagee Kaise Behatar Bane.
Itane Dukh Zindagee Ke Liye,
Aur Isee Ka Bharosa Nahee..

Ye Takalluph Bhala Kab Talak,
Mere Nazadeek Aa Jaiye.
Kal Rahe Na Rahe Kya Pata,
Zindagee Ka Bharosa Nahin..

Pattharon Se Kaho Raaz-e- Dil,
Ye Na Denge Daga Aap Ko.
Ai Nadeem Aaj Ke Daur Mein,
Aadamee Ka Bharosa Nahee..

Tags - dosti ka bharosa nahi lyrics, dushmani kito kya puchiye lyrics, दोस्ती का भरोसा नहीं कव्वाली lyrics, dushmani kito kya puchiye dosti ka bharosa nahi lyrics, dushmani kito kya puchiye lyrics in hindi, Dr nadeem shad shayari lyrics, dosti ka bharosa nahi ghazal, दोस्ती पर भरोसा शायरी, नदीम शाद शायरी, नदीम शाद मुशायरा, nadeem shad ki shayari, नदीम शाद ग़ज़ल।

दुश्मनी की तो क्या पूछिये... दोस्ती का भरोसा नहीं...

Dushmani ki to kya puchiye... dosti ka bharosa nahi - Nadeem Shad

Dushmani ki to kya puchiye... Dosti ka bharosa nahi - Nadeem Shad

दुश्मनी की तो क्या पूछिये,
दोस्ती का भरोसा नहीं। 
आप मुझ से भी पर्दा करें,
अब किसी का भरोसा नहीं।।

कल ये मेरे भी आँगन में थी,
जिसपे तुझको गुरूर आज है।
कल ये शायद तुझे छोड़ दे,
इस ख़ुशी का भरोसा नहीं।।

क्या ज़रूरी है हर रात में,
चाँद तुमको मिले जानेजाँ।
जुगनुओं से भी निस्बत रखो,
चाँदनी का भरोसा नहीं।।

रात दिन मुस्तकिल कोशिशें,
ज़िन्दगी कैसे बेहतर बने।
इतने दुख ज़िन्दगी के लिये,
और इसी का भरोसा नहीं।।

ये तकल्लुफ भला कब तलक,
मेरे नज़दीक आ जाइये।
कल रहे न रहे क्या पता,
ज़िन्दगी का भरोसा नहीं।।

पत्थरों से कहो राज़-ए- दिल,
ये ना देंगे दगा आप को।
ऐ नदीम आज के दौर में,
आदमी का भरोसा नहीं।।

nadeem shad shayari
NADEEM SHAD


Dushmanee Kee To Kya Poochhiye,
Dostee Ka Bharosa Nahin.
Aap Mujh Se Bhee Parda Karen,
Ab Kisee Ka Bharosa Nahee..

Kal Ye Mere Bhee Aangan Mein Thee,
Jisape Tujhako Guroor Aaj Hai.
Kal Ye Shaayad Tujhe Chhod De,
Is Khushee Ka Bharosa Nahee.. 

Kya Zarooree Hai Har Raat Mein,
Chaand Tumako Mile Jaanejaan.
Juganuon Se Bhee Nisbat Rakho,
Chaandanee Ka Bharosa Nahee..

Raat Din Mustakil Koshishen,
Zindagee Kaise Behatar Bane.
Itane Dukh Zindagee Ke Liye,
Aur Isee Ka Bharosa Nahee..

Ye Takalluph Bhala Kab Talak,
Mere Nazadeek Aa Jaiye.
Kal Rahe Na Rahe Kya Pata,
Zindagee Ka Bharosa Nahin..

Pattharon Se Kaho Raaz-e- Dil,
Ye Na Denge Daga Aap Ko.
Ai Nadeem Aaj Ke Daur Mein,
Aadamee Ka Bharosa Nahee..

Tags - dosti ka bharosa nahi lyrics, dushmani kito kya puchiye lyrics, दोस्ती का भरोसा नहीं कव्वाली lyrics, dushmani kito kya puchiye dosti ka bharosa nahi lyrics, dushmani kito kya puchiye lyrics in hindi, Dr nadeem shad shayari lyrics, dosti ka bharosa nahi ghazal, दोस्ती पर भरोसा शायरी, नदीम शाद शायरी, नदीम शाद मुशायरा, nadeem shad ki shayari, नदीम शाद ग़ज़ल।

No comments